Header Ads

  • Breaking News

    लेईको ले 1एस ईको का रिव्यू

    लेईको ले 1एस ईको का रिव्यू


    कुछ महीने पहले ले 1एस हैंडसेट के जरिए भारतीय मार्केट में कदम रखने वाली चीन की लेईको कंपनी ने बाज़ार में तेजी से और सस्ते फोन उतारने शुरू कर दिए हैं। फोन को जरिया बनाकर कंपनी ने अपनी कंटेंट सर्विस 'लेईको मैंबरशिप' को पेश किया है। कंपनी को उम्मीद है कि ये सेवाएं भविष्य में उसकी कमाई का मुख्य जरिया बनेंगी।


    यह एक रोचक रणनीति है, और कुछ हद तक जुआ भी। क्या ग्राहक एक साल की मुफ्त मेंबरशिप खत्म हो जाने के बाद अगले साल से सब्सक्रिप्शन के लिए भुगतान करेंगे? यह देखने वाला होगा। क्या लेईको ऐसा ऑफर देने में कामयाब रहेगी जिसे भारतीय स्मार्टफोन यूज़र नकार नहीं पाएंगे। इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए हम आपको ले 1एस ईको के रिव्यू से रूबरू कराते हैं।
    लुक और डिजाइन

    अगर आपने ले 1एस को देखा या इस्तेमाल किया है तो ले 1एस ईको के बारे में कहने के लिए कुछ भी नया नहीं है। दोनों ही फोन बिल्कुल ही एक जैसे हैं। नया मॉडल अभी सिर्फ गोल्ड वेरिएंट में उपलब्ध है, लेकिन दोनों की बनावट में कोई ऐसा बदलाव नहीं है जिसका ज़िक्र किया जाए। डाइमेंशन और वज़न के लिहाज से भी कोई बदलाव नहीं किया गया है। हमें दिए गए टेस्ट यूनिट में अब भी पुराना लेटीवी लोगो मौजूद था। यह चौंकाने वाला है, क्योंकि कंपनी को इसे बदलने के लिए लंबा वक्त मिल चुका है।

    ले 1एस को बनाने में इस्तेमाल किए गए मेटेरियल और बिल्ड क्वालिटी बेहतरीन हैं। इसलिए हम इस फोन से भी पूरी तरह से संतुष्ट हैं। यह दिखने में ज्यादा महंगा होने का एहसास देता है। यह किनारों पर थोड़ा शार्प है, लेकिन इसे आमतौर पर हाथों में रखना और इस्तेमाल करना काफी कंफर्टेबल है।
    सारे अहम प्वाइंट तक आसानी से पहुंचा जा सकता है, चाहे रियर हिस्से पर मौजूद फिंगरप्रिंट सेंसर ही क्यों ना हो। दायीं तरफ मौजूद सिम कार्ड स्लॉट में एक नैनो सिम और एक माइक्रो सिम कार्ड इस्तेमाल किए जा सकते हैं। हैंडसेट में माइक्रोएसडी कार्ड के लिए सपोर्ट मौजूद नहीं है। ले 1एस ईको यूएसबी टाइप-सी पोर्ट के साथ आता है जिसका इस्तेमाल चार्ज और डेटा ट्रांसफर के लिए किया जा सकता है। आपको एक क्विक चार्जर भी मिलेगा, जो आमतौर पर मिलने वाले चार्जर से ज्यादा बड़ा और वज़नदार है।

    स्पेसिफिकेशन

    ले 1एस की तुलना में ले 1एस ईको थोड़े कम क्लॉक स्पीड वाले सीपीयू के साथ आता है। यह भी ऑक्टा-कोर मीडियाटेक हीलियो एक्स10 प्रोसेसर के साथ आता है, लेकिन कंपनी ने बताया है कि पुराने फोन की 2.2 गीगाहर्ट्ज़ क्लॉक स्पीड की तुलना में यह 1.8 गीगाहर्ट्ज़ की क्लॉक स्पीड देगा।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad