Header Ads

  • Breaking News

    वर्ल्ड चैंपियन बनने के लिए भारत को मिला 229 का लक्ष्य

    टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने उतरी इंग्लैंड को ब्यूमोन्ट और विनफील्ड ने अच्छी शुरुआत दी. दोनों ने पहले विकेट के लिए 47 रन जोड़े.मेजबान टीम को पहला झटका 11.1 ओवर में राजेश्वरी गायकवाड़ ने दिया. जब उन्होंने लॉरेन विनफील्ड (24) को बोल्ड कर दिया.

    कुछ देर बाद ही पूनम यादव बॉलिंग करने आईं और आते ही उन्होंने दूसरी सेट बल्लेबाज ब्यूमोन्ट (23) का विकेट ले लिया.ब्यूमोन्ट 14.3 ओवर में यादव की बॉल पर झूलन गोस्वामी को कैच दे बैठीं. 3 रन बाद ही एक विकेट और गिर गया. जब 16.1 ओवर में पूनम यादव ने हीथर नाइट  (1) को एलबीडब्लू करके इंग्लैंड को तीसरा झटका दिया.
    किताब लेकर स्टेडियम पहुंचीं थीं कप्तान मिताली राज
    हर बार की तरह इस बार भी भारत की कप्तान मिताली राज मैच से पहले किताब लेकर स्टेडियम पहुंची थी.भारत ने जब अपना पहला लीग मैच इंग्लैंड के खिलाफ खेला था, तो उस मैच में मिताली भारत की पारी के दौरान अपनी बल्लेबाजी से पहले एक किताब पढ़ती हुई नजर आईं थी. ऐसे में उम्मीद होगी कि मिताली इंग्लैंड के खिलाफ लीग मैच वाला प्रदर्शन दोहराएंगी.

    जीते तो ये रिकॉर्ड बनाएगी भारतीय महिला टीम
    भारतीय महिला टीम अगर यह मुकाबला जीत जाती है, तो महिला वर्ल्ड कप के 44 साल के इतिहास में वह पहली बार वर्ल्ड चैंपियन बनेगी. इसी के साथ ही टीम इंडिया की कप्तान मिताली राज के पास भारतीय क्रिकेट (महिला और पुरुष) के इतिहास में कपिल देव और महेंद्र सिंह धोनी के बाद वर्ल्ड चैंपियन कप्तान बनने का मौका है. कपिल देव ने भारत को 1983 और महेंद्र सिंह धोनी ने 2011 में वर्ल्ड चैंपियन बनाया था. अगर मिताली टीम इंडिया को चैंपियन बना देती हैं, तो इतिहास के सुनहरे पन्नों में उनका नाम दर्ज हो जाएगा.

    ऑस्ट्रेलिया के बाद भारत के नाम दर्ज होगा ये रिकॉर्ड
    मिताली की अगुवाई वाली टीम वर्ल्ड कप जीतने में कामयाब होती है तो भारत, ऑस्ट्रेलिया के बाद दूसरा ऐसा देश बन जाएगा जिसकी पुरुष और महिला दोनों टीमों ने 50 ओवर का क्रिकेट वर्ल्ड कप अपने नाम किया होगा.
    टूर्नामेंट में भारतीय टीम का प्रदर्शन
    टीम इंडिया ने वर्ल्ड कप 2017 का धमाकेदार आगाज किया है. अपने पहले ही मैच में टीम इंडिया ने मेजबान इंग्लैंड को 35 रनों से हराया था. उसके बाद वेस्टइंडीज, पाकिस्तान,श्रीलंका और न्यूजीलैंड को धूल चटाकर 7 मैचों में से 5 में जीत हासिल करके सेमीफाइनल में जगह बनाई. फिर सेमीफाइनल में 6 बार की वर्ल्ड चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को मात देकर दूसरी बार महिला वर्ल्ड कप के फाइनल में अपनी जगह पक्की की. अगर फाइनल में भी टीम इंडिया ने इंग्लैंड के खिलाफ लीग मैच वाला प्रदर्शन किया तो भारत की बेटियां वर्ल्ड कप लेकर ही घर लौटेंगी.

    महिला वर्ल्ड कप में टीम इंडिया का सफर
    11वां महिला वर्ल्ड कप जारी है, जबकि भारतीय टीम का यह नौवां विश्व कप है. जिसके खिताबी टक्कर के लिए टीम तैयार है. उसने शुरुआती वर्ल्ड कप 1973 और 1988 वर्ल्ड कप में हिस्सा नहीं लिया था. 2005 में भारतीय टीम ने फाइनल तक का सफर जरूर तय किया, लेकिन वह अबतक खिताब पर कब्जा नहीं जमा पाई है.
    भारत बनाम इंग्लैंड
    फाइनल में भारत का पलड़ा मेजबान इंग्लैंड टीम पर भारी लग रहा है. भारतीय टीम में युवा और अनुभवी खिलाड़ियों का अच्छा तालमेल है जो टीम की बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग में दिखाई देता है. भारतीय स्पिनर फॉर्म में चल रहीं जो सीम और स्विंग कंडीशंस में भी बढ़िया प्रदर्शन कर रही हैं.
    मेजबान इंग्लैंड टीम को हल्के में लेना टीम इंडिया के लिए गलत साबित हो सकता है. कप्तान मिताली इस बात को जानती हैं कि इंग्लैंड अपने घर में मजबूत टीम है. इंग्लैंड की बल्लेबाज नैट स्काइवर ने न्यूजीलैंड और पाकिस्तान के खिलाफ शतक बनाए थे. वह कभी भी मैच का पास पलटने का माद्दा रखती हैं. वह इंग्लैंड को 2009 का वर्ल्ड कप दिलाने में अहम भूमिका निभा चुकी हैं. जब इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को हराकर वर्ल्ड कप ट्रॉफी जीती थीं.
    भारत के खिलाफ शिकस्त के बाद इंग्लैंड ने जोरदार वापसी की है. इंग्लैंड ने सेमीफाइनल में दक्षिण अफ्रीका पर दो विकेट की रोमांचक जीत के साथ खिताबी मुकाबले में जगह बनाई है. टीम को विकेटकीपर बल्लेबाज सारा टेलर और नताली शिवर से काफी उम्मीदें होंगी. कप्तान हीथ नाइट का मानना है कि उनकी टीम ने अब तक अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं किया है और टीम खिताबी मुकाबले में ऐसा कर सकती है.

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad