Header Ads

  • Breaking News

    7300 करोड़ की निरमा 9400 करोड़ रुपए में सीमेंट कंपनी लाफार्ज खरीदेगी

    नई दिल्ली.निरमा 1.4 अरब डॉलर (9,400 करोड़ रुपए) में सीमेंट कंपनी लाफार्ज इंडिया को खरीदेगी। लाफार्ज इंडिया दुनिया की सबसे बड़ी सीमेंट कंपनी लाफार्ज-होलसिम की भारतीय यूनिट है। अब इस सौदे पर कॉम्पीटीशन कमीशन (सीसीआई) से मंजूरी ली जानी है। लाफार्ज इंडिया के लिए अजय पीरामल की पीरामल एंटरप्राइजेज और सज्जन जिंदल की जेएसडब्लू सीमेंट ने भी बोली लगाई थी। लेकिन निरमा की बोली ज्यादा निकली। अब यह कंपनी करसनभाई यानी निरमा के मैनेजिंग डायरेक्टर की होगी, जो कभी साइकिल पर घर-घर डिटरजेंट बेचते थे। 1.1 करोड़ टन सालाना से 1.35 करोड़ टन हो जाएगा प्रोडक्शन...

    - लाफार्ज इंडिया के तीन प्लांट दो ग्राइंडिंग स्टेशन हैं। इसकी कैपेसिटी 1.1 करोड़ टन सालाना की है। यह रेडीमिक्स कंक्रीट भी बनाती है।
    - निरमा की सब्सिडियरी सिद्धिविनायक सीमेंट्स का राजस्थान में 20 लाख टन क्षमता का प्लांट है।
    - लाफार्ज इंडिया को खरीदने के बाद इसकी क्षमता 1.35 करोड़ टन हो जाएगी। यह गुजरात के महुवा में भी नया प्लांट लगाने जा रही है।
    निरमा के करसनभाई खुद बनाते और साइकिल पर घर-घर बेचते थे डिटरजेंट
    - निरमा अहमदाबाद की कंपनी है। इसका टर्नओवर करीब 7,300 करोड़ रुपए है। यह शेयर बाजार में लिस्टेड नहीं है।
    - केमिस्ट्री में ग्रेजुएट करसनभाई पटेल इसके मैनेजिंग चेयरमैन हैं। नौकरी करते-करते उन्होंने 1969 में घर में डिटरजेंट बनाना शुरू किया।
    - खुद बनाते और खुद साइकिल पर बेचते। तब हिंदुस्तान लीवर का सर्फ 13 रुपए किलो बिकता था।
    - करसनभाई ने अपने डिटरजेंट का दाम रखा तीन रुपए किलो। यह तत्काल हिट हो गया।
    - बेटी के नाम पर डिटरजेंट का नाम रखा निरमा। यह समूह डिटरजेंट, साबुन, नमक, सोडा एश, कास्टिक सोडा, सीमेंट, पैकेजिंग आदि के बिजनेस में है।
    - भारत और अमेरिका में इसके 12 मैन्युफैक्चरिंग प्लांट हैं। इसके कर्मचारियों की संख्या 18,000 के आसपास है।
    एसीसी लिमिटेड और अंबुजा सीमेंट के जरिए कारोबार जारी रखेगी लाफार्ज
    - लाफार्ज-होलसिम ने सोमवार को एक बयान में कहा कि वह अपनी सब्सिडियरी एसीसी लिमिटेड और अंबुजा सीमेंट के जरिए भारत में कारोबार जारी रखेगी।
    - एसीसी और अंबुजा सीमेंट की कुल क्षमता छह करोड़ टन सालाना है। लाफार्ज-होलसिम 90 देशों में कारोबार करती है।
    - दुनियाभर में इसके 1.15 लाख कर्मचारी हैं। इसका सालाना टर्नओवर दो लाख करोड़ रुपए है।




    Post Top Ad

    Post Bottom Ad